Girls B.Ed. ColegeRBKSTeachers Training College Rajasthan

s
JR Sharma
जे. आर. शर्मा कन्या शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय की स्थापना सत्र २००६-२००७ में १८ सितम्बर २००६ को की गई। यह महाविद्यालय मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय से सम्बद्ध है तथा राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् (छब्ज्म्) द्वारा मान्यता प्राप्त है। राजस्थान बाल कल्याण समिति (आर. बी. के. एस.) का शिक्षा प्रकल्प है

शिक्षा और सामाजिक विकास के क्षेत्र में १९८१ से कार्यरत स्वयंसेवी संस्था राजस्थान बाल कल्याण समिति इस नई सहस्त्रााब्दि के जुलाई माह में अपनी स्थापना के २७ वर्ष पूरे कर चुकी है।
सामाजिक-सांस्कृतिक बदलाव की इच्छा रखने वाले कर्मठ शिक्षक श्री जीवतराम शर्मा ने सन् १९८१ में एक प्राथमिक विद्यालय की स्थापना कर राजस्थान बाल कल्याण समिति की नींव डाली। जीवतराम शर्मा के अथक प्र्रयासों से डाली गई इसी नींव पर आगे चल कर संस्था से जुडे शिक्षकांे तथा सामाजिक कार्यकत्ताओं की समर्पित टीम ने प्राथमिक शिक्षा से स्नातकोत्तर शिक्षा तक के स्वप्नदर्शी लक्ष्य को पाने का गौरव हासिल किया । ग्रामीणों को सामाजिक सहायता देकर उन्हें एक आत्मनिर्भर नागरिक में बदला जा सकता है, जिससे वे स्वावलम्बी एवं संपूर्ण जीवन निर्माण में स्वयं सक्षम हो सकें। इस सोच ने संस्था को बहुआयामी और व्यापक दृष्टिकोण वाले संस्थान के रूप में स्थापित किया।
अगस्त १९९९ में स्थापित जे. आर. शर्मा कला महाविद्यालय झाड़ोल स्थानीय स्तर पर उच्च अध्ययन की सुविधा उपलब्ध कराने की उल्लेखनीय कोशिश है। जो मोहनलाल सुखाडिया विश्वविद्यालय से संबद्ध है।
राजस्थान बाल कल्याण समिति द्वारा वर्तमान में जिन शैक्षणिक गतिविधियों व परियोजनाओं का संचालन किया जा रहा है, उनमें प्रमुख है- ८ महाविद्यालय, उच्च माध्यमिक विद्यालय (कला, विज्ञान एवं वाणिज्य), उच्च प्राथमिक विद्यालय, जनजाति कन्या छात्रावास, कन्या शिक्षण प्रशिक्षण महाविद्यालय, नर्सिंग कॉलेज, निराश्रित बालगृह, शैक्षणिक परिसर, ५० अनौपचारिक शिक्षा केन्द्र, ४ विशेष बाल श्रमिक विद्यालय, शिशु पालना केन्द्र, बालवाडी, सांस्कृतिक विकास कार्यक्रम इत्यादि है।
ग्रामीण शिक्षा और ज्ञान के प्रचार प्रसार में वर्ष २००७ तक शिक्षा से लाभान्वित छात्र-छात्राओं की संख्या ८६५७ हो गई है। इनमें १३४२ छात्राएं है जिन्होनें संस्था के शिक्षा संस्थानों से पढ़ लिखकर जीवन और समाज के विभिन्न क्षैत्रों में स्वयं की आत्मनिर्र्भर पहचान बनाई है।
राजस्थान सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में सृजनात्मक और उल्लेखनीय योगदान व भूमिका के लिए राजस्थान बाल कल्याण समिति को डॉ. भीमराव अम्बेडकर सेवा पुरस्कार एवं प्रशंसा प्रमाण पत्र देकर पुरस्कृत किया है।
शैक्षणिक गतिविधियों के अलावा संस्था द्वारा संचालित 'ग्रामीण विकास परियोजना' के अन्तर्गत चलाए जा रहे कार्यक्रमों का मुख्य ध्येय ग्रामीण समुदाय का संपूर्ण विकास है।

इस तरह से वर्तमान में संस्था २१ विद्यालय, ८ महाविद्यालय, ५ छात्रावास, १२ बालवाड़ी एवं शिशुपालना केन्द्र, १००० बच्चों के लिये बाल विकास कार्यक्रम, १८० गाँवों में जलग्रहण, ग्रामीण सामुदायिक विकास, महिला जागरूकता, ग्रामीण स्वच्छता, १००० परिवारों हेतु ऑवलावाड़ी कार्यक्रम आदि का संचालन कर रही है।
आगामी योजनान्तर्गत संस्था द्वारा २ नर्सिंग महाविद्यालय, ३ स्नातक महाविद्यालय, १ शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय, आई.टी.आई कॉलेज एवं ४० ग्रामों में नवीन परियोजनाएँ प्रारम्भ करने हेतु योजना तैयार की गई।

Infrastructure and Facilities